Chandra Grahan 2023: गर्भवती महिलाएं हो जाएं सावधान, नहीं तो हो जाएगा भारी नुकसान

Chandra Grahan 2023: इस साल का अंतिम चंद्र ग्रहण 28 अक्टूबर को लगने जा रहे हैं, और यह चंद्र ग्रहण शरद पूर्णिमा के दिन की लगेगा, रात को 1:06 पर शुरू होने वाला साल का अंतिम चंद्र ग्रहण रात को 2:22 पर समाप्त होगा. भारत में इस चंद्र ग्रहण की 1 घंटे और 16 मिनट तक की है.

चंद्र ग्रहण के बारे में ऐसा कहा जाता है कि जब राहु और केतु चंद्रमा को नीवालने की कोशिश में लगे होते हैं तब चंद्रमा पर ग्रहण लगता है और वही से कुछ समय पहले सूतक काल भी लग जाता है, लेकिन इसमें सबसे बड़ी सावधानियां गर्भवती महिलाओं को वर्तनी है नहीं तो उन्हें काफी नुकसान हो सकता है जिसके बारे में आगे पता चलेगा.

इन्हें भी जाने:Business Idea: घर में बैठी औरतें भी कमाएं रोज के ₹2000, यदि जल्दी शुरू करें यह काम

गर्भवती महिलाओं के साथ-साथ हम सभी को चंद्र ग्रहण के समय काफी सावधानियां बरतनी चाहिए इस दौरान भोजन व किसी ने के लिए वस्तु का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए खासतौर पर गर्भवती महिलाओं को काफी अधिक सावधानी बरतनी चाहिए, क्योंकि चंद्र ग्रहण गर्भवती महिलाओं के लिए और शुभ माना जाता है कहा जाता है कि चंद्र ग्रहण के समय कुछ नकारात्मक शक्तियां निकलते हैं जिनका प्रभाव गर्भस्थ शिशु पर बड़ी जोर से पड़ता है.

चंद्र ग्रहण पर गर्भवती महिलाएं क्या ना करें?

के दौरान गर्भवती महिलाओं को भोजन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए ऐसा करने से होने वाले बच्चों के जीवन पर काफी बुरा असर पड़ता है, कहा जाता है कि चंद्रग्रहण के समय दुष्प्रभाव काफी तेजी से हावी होता है ऐसे में किसी भी खान-पान वाली वस्तु का सेवन नहीं करना चाहिए.

नुकीली वस्तु का बिल्कुल ना करें प्रयोग-

गर्भवती महिला को चंद्र ग्रहण के समय में कली वास्तु जैसे की चाकू और सी एवं कैंची जैसी वस्तुओं का बिल्कुल भी प्रॉब्लम नहीं करना चाहिए माना जाता है कि ऐसे में की लिपस्टिक को इस्तेमाल में लाने से बच्चे को दुष्प्रभाव झेलना पड़ सकते हैं.

घर से बाहर बिल्कुल न जाए-

गर्भवती महिलाओं को चंद्र ग्रहण के दौरान अपने घर से बाहर बिल्कुल भी नहीं निकलना चाहिए क्योंकि शास्त्रों में बताया गया है कि चंद्र ग्रहण के शुरू होने से लेकर उसके समापन के समय तक उसे चंद्र की रोशनी से खुद को बचाना चाहिए साथ ही चंद्र ग्रहण को देखने की गलती भूलकर भी ना करें, यदि ऐसा किया जाता है तो गर्भ में पल रहे बच्चों पर नकारात्मक ऊर्जाओं का प्रभाव पड़ सकता है.

सोना नहीं चाहिए-

चंद्र ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को बिस्तर पर या कहीं और सोने से बिल्कुल भी बचना चाहिए माना जाता है कि ग्रहण के समय गर्भवती महिला यदि सो जाती है तो घर ग्रस्त शिशु मानसिक रूप से मंद पैदा हो सकता है इसलिए ग्रहण के समय गर्भवती महिला को भगवान श्री हरि का किस तरह करने की सलाह दी गई है.

ग्रहण के समय गर्भवती महिला जरूर करे यह कार्य-

चंद्र ग्रहण के समय गर्भवती महिला को काफी ज्यादा सावधानियां बरतनी चाहिए और जब ग्रहण समाप्त हो जाता है तो गर्भवती महिलाओं और सभी सदस्यों को तुरंत स्नान कर लेना चाहिए क्योंकि ग्रहण के समय गंदे प्रभाव दूर हो जाते हैं और गंगाजल का छिड्कव जरूर करना चाहिए.

सबसे जरूरी होता है यह-

अगर गर्भवती महिला चंद्र ग्रहण के समय अपने किसी भी भगवान का नाम बार-बार याद करती है जीभ या से रतती है तो उसके ऊपर ग्रहण का कोई भी प्रभाव नहीं पड़ता है वह चाहे भगवान शिव का नाम रटे, भगवान श्री कृष्ण का नाम रटे, या फिर भगवान श्री कृष्णा जो नाम रटते हैं राधा नाम उसे रटे.

Leave a comment